Balrampur :- जिला बलरामपुर पुलिस द्वारा नक्सली प्रकरण पर की गई कार्यवाही।

दिनांक-05.09.15 को पुलिस अधीक्षक बलरामपुर को जरिये मुखबिर सूचना मिला कि 15-20 दिवस से रघुनाथनगर थाना क्षेत्रांतर्गत एवं जिला सूरजपूर के थाना रमकोला क्षेत्रान्तर्गत 8-10 सशस्त्र वर्दीधारी माओवादी नक्सली राजेन्द्र खैरवार उर्फ विश्वनाथ उर्फ दिलीप कमाण्डर का दस्ता गांव-गांव में घुमकर संगठन का प्रचार-प्रसार कर रहा है एवं पोस्टर पर्चा बांटकर ग्राम सरपंच, ठेकेदारों से लेव्ही की मांकर फोन से धमकी दे रहा है, जिससे ग्रामीणों में भय एवं दहशत का वातावरण व्याप्त है सूचना पर पुलिस अधीक्षक बलरामपुर श्री सदानंद कुमार द्वारा सकारात्मक कार्यवाही वास्ते झारखण्ड के थाना भण्डरिया के पुलिस स्टाफ, बलरामपुर जिला के थाना रामानुजगंज, रघुनाथनगर, चौकी वाड्रफनगर के प्रभारी एवं स्टाफ को वाड्रफनगर में संयुक्त आपरेशन क्षेत्र में घूम रहे भा.क.पा. माओवादियों के सदस्यों को धर पकड़ करने हेतु रणनीति कार्ययोजना बनया गया और थाना रघुनाथनगर में आकर पुलिस अधीक्षक द्वारा ब्रीफिग किया गया। बाद ब्रीफिग थाना रघुनाथनगर से पुलिस अधीक्षक श्री सदानंद कुमार के हमराह लगभग 34 अधि./कर्म. मय आर्म्स एम्यूनेशन के उपलब्ध साधन संसाधन से सोनहत पहुंचकर पुलिस का लोकेशन छुपाव करते हुए पैदल जंगल पहाड़ का सर्चिंग करते हुए समस्त पुलिस बल धौरापारा के पास लगभग 4ः30 बजे पहुंचकर पतासाजी किया गया तब पता चला कि 8-10 सशस्त्र वर्दीधारा नक्सली शाम रात को समरमटिया तरफ देखे गये है उक्त सूचना पर मुताबिक रणनीति के समस्त पुलिस पार्टी कोे तीन भागों में बांटा गया। प्रथम पार्टी का नेतृत्व पुलिस अधीक्षक बलरामपुर श्री सदानंद कुमार, दूसरी पार्टी का नेतृत्व निरीक्षक श्री सी.तिग्गा एवं तीसरी पार्टी का नेतृत्व थाना प्रीाारी रघुनाथनगर श्री किशोर केंवट कर रहे थे। उक्त सक्रिय भाकपा माओवादियों को धर पकड़ करने के उद्धेश्य से तीनो पार्टी तीन दिशाओं से समरमटिया जंगल का घेराबंदी करते हुए लगभग 5 बजे कहुआ नाला जंगल पास पहुंचे थे कि झाड़ी में छुपा नक्सली संत्री पुलिस पार्टी को देख लिया और बिना कोई प्रतिक्रिया के अंधाधुध पुलिस पार्टी पर गोलियां चलाने लगा। पुलिस पार्टी के नेतृत्वकर्ता पुलिस अधीक्षक द्वारा नक्सलियों को हथियार डालकर आत्मसमर्पण करने को कहा गया किन्तु नक्सलिी उनकी बातों को नजर अंदाज करते हुए पुलिस पार्टी को जान से से मारकर शासकीय हथियार लूटने की नियत से गोली बारी जारी रखे, पुलिस पार्टी के पास कोई अन्य विकल्प न होने से नेतृत्वकर्ता के निर्देश पर पुलिस पार्टी द्वारा भी आत्मरक्षार्थ फायरिंग किया जाने लगा। गोली बारी 5 बजे से 5ः30 बजे तक चलती रही, गोली बारी के दौरान तीन चार पुलिस जवानों को नक्सलियों ने घेर लिया तभी पुलिस अधीक्षक एवं अन्य स्टाफ ने मिलकर अपनी जान की परवाह न करते हुए गोली बारी के बीच घिरे जवानों को बचा लिया गया नहीं तो नक्सली से घिरे हुआ जवानों को जान से मारकर हथियार लूटकर भागने में सफल हो जाते। गोली बारी के दौरान ही पुलिस अधीक्षक द्वारा नक्सलियों को अपनी घेराबंदी में फंसा लिये। फायरिंग समाप्त होते ही तत्परतापूर्वक घटना स्थल से झाउ़ी में छुपे 05 जीवित नक्सलियों को मय आर्म्स एम्यूनेशन के धर दबोचा गया यदि तत्परतापूर्वक नहीं पकड़ गया होता तो वे भी अपने साथियों के साथ भाग गये होते। पकड़े गये नक्सलियों के पास से 05 नग 315 बोर रायफल एवं उनका पीठ्ू बरामद किया गया कुछ नक्सली मौके से जंगल पहाड़ नाला का फायदा उठाकर भाग गये। मौके पर पकड़े गये पांचों आरोपियों से पूछताछ किया गया तब दस्ता कमाण्डर अपना नाम राजेन्द्र खैरवार उर्फ विश्वनाथ उर्फ दिलीप, डिप्टी कमाण्डर विष्णु गुप्ता उर्फ महेन्द्र उर्फ बी.के., एरिया सदस्य आगर साय उर्फ श्रवण, गुडु सिंह एवं वकील चौधरी होना बताये। पकड़े गये आरोपियों से 05 नग 315 बोर रायफल, 50 नग 315 बोर जिंदा कारतूस, 02 नग टार्च, 14 नग मोबाईल, 30 नग सीम एवं 60250 रूपये नगद, 4 नग पीठ्ठू, नक्सली साहित्य दैनिक उपयोग की सामग्री बरामद किया गया है जिसे मुताबिक जप्ती पत्रक के जप्त किया गया है एवं उपरोक्त अपराध पंजीबद्ध कर विवेचना में लिया गया है। पुलिस द्वारा इस सफल कार्यवाही से क्षेत्र के ग्रामीणों ने नक्सलियों के आतंक से व्याप्त भय से निजाद पाया है। पुलिस की सफल कार्यवाही की भूरि-भूरि प्रशंसा की गई है।

District: 
Balrampur
Post Image: